सोमवार, 1 जून 2015

सुरेशपाल वर्मा जसाला sureshpal verma jasala

मेरा संक्षिप्त  परिचय
नाम-सुरेशपाल वर्मा जसाला [ सोनी जी ]
पिता -स्व. श्री सियानन्द वर्मा ,,,स्व. माता -श्रीमती मूर्तिदेवी
दादा-स्व. श्री रामचन्द्र वर्मा ,,,दादी-स्व. श्रीमती  चन्द्रोदेवी
ग्राम -जसाला / दिसाला [ जिला-शामली ]
एम ए ,बी एड़
[१] ****** मैं अपने बारे में बताना चाहूंगा कि मैं पेशे से सरकारी विद्यालय में अध्यापक हूँ। मेरी आयु 56 वर्ष [जन्म तिथि 25 दिसम्बर 1958 ] ,,दिल्ली सरकार के सीनियर सेकेंड्री विद्यालय में सेवाकाल 27  वर्ष ,,
[2 ],दो बार सर्वोत्तम अध्यापक पुरस्कार प्राप्त [दिल्ली नगर निगम से ]

[3  ]******अब तक प्रकाशित विभिन्न पुस्तकें  8 ,,,
मेरी प्रकाशित पुस्तकें इस प्रकार से हैं-(१)मैं भी कुछ कहता हूँ [काव्य]  (२)बालमन और सिंहासन [बाल- काव्य](३)महाशिला का कण [काव्य]  (४)जीवन के रंग [संस्मरण ] (५)मैर क्षत्रिय स्वर्णकार और उनका इतिहास (६)भारत माँ को नमन[काव्य] (७)थू [लेख संग्रह-इसमें  मोदी जी का लिखित  शुभकामना संदेश भी  है ]
 (८ )उत्कृष्ट व्यक्तित्व नरेन्द्र मोदी [जीवन -परिचय ]
[4  ]*******''अनमोल सिक्के'' अर्ध वार्षिक पत्रिका का सम्पादन कर्ता  भी मैं ही हूँ

[5  ]*******सम्मान --
साहित्य सौरव [2009 ], काव्य-रत्न [2010 ], गुरुदेव बृह्पति सम्मान [2011 ], पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पुरस्कार [2011 ] ,स्व. रामबाबू स्मृति अवार्ड [2012 ] , साहित्य भूषण [2012 ], विश्व कवि सांसद,लखनऊ ,उत्तर प्रदेश [2012 ] , डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन सम्मान [2012 ] , संस्कार भारती  सम्मान,डिबाई ,उत्तर-प्रदेश [2013 ] , उत्कृष्ट शिक्षक सम्मान  [2014 ],नमो साहित्य सम्मान [2014 ],आर्य वीर [2014 ] , देवी अहिल्याबाई होल्कर सम्मान [2014 ], साहित्य गौरव- दिल्ली  [2014], साहित्य- गौरव ,सिवनी, मध्य-प्रदेश [2015 ],कवितालोक रत्न सम्मान ,हिसार ,हरियाणा[ 2015 ], साहित्यिक सम्मान ,सहारनपुर ,उत्तर प्रदेश [2015 ]
,
[6  ]*******''काव्य में '''''नव विधा '''''वर्ण पिरामिड'''' को मैंने ही शुरू किया।
[7  ]*******सुप्रभात मंच [पंजी ][सामाजिक संस्था]का संथापक अध्यक्ष हूँ।
[8  ]*******स्वर्णकार धर्मशाला ,शाहदरा का ट्रस्टी हूँ।
[9  ]*******संरक्षक -न्यू  मॉडर्न शाहदरा वेलफेयर एसोसिएशन [पंजी  ]
[10  ]*******सहित्यिक फेसबुक ग्रुप ''काव्य अनुगूंज ''
********************************************सुरेशपाल वर्मा जसाला
1/4332  श्रीराम भवन ,,रामनगर विस्तार ,,शाहदरा दिल्ली  110032
मोब. 098680 53535

2 टिप्‍पणियां:

  1. जी मैं विश्वसाहित्य/काव्य में वर्ण पिरामिड के उद्भवऔर विकास से परिचित होना चाहता हूँ. उसके बाद हिंदी काव्य में.यह जानकारी कहाँ मिल सकती है?

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी मैं विश्वसाहित्य/काव्य में वर्ण पिरामिड के उद्भवऔर विकास से परिचित होना चाहता हूँ. उसके बाद हिंदी काव्य में.यह जानकारी कहाँ मिल सकती है?

    उत्तर देंहटाएं