मंगलवार, 12 दिसंबर 2017


वर्ण-पिरामिड सप्ताहाँक - 159   सम्मान्य प्रमुख :  शशि त्यागी जी
दिनाँक = 14 मई 2018 (प्रातः 8 बजे ) से  20 मई 2018 ( सायं 8 बजे ) तक
शीर्षक =  हर्षोत्कर्ष / आनंदातिरेक / हर्षातिरेक / हर्षातिशय / आनन्दोत्कर्ष आदि समानार्थी शब्द
*** मित्रों ! वर्ण पिरामिड रचनाकार, प्रस्तुत शीर्षक / चित्र को आधार मानकर दो-दो ''वर्ण -पिरामिड '' रचकर
पोस्ट करें ,,,,, उत्कृष्टता के आधार पर,,,,भाव-विधान ,शिल्प-विधान पर केंद्रित रचनाकारों को ''पिरामिड श्री सम्मान '' या ''पिरामिड -भूषण सम्मान '' से सम्मानित किया जायेगा,,,***सम्मानित मित्रों ! इस छोटी सी रचना ''वर्ण पिरामिड'' में सुन्दरतम् ,सार्थक शब्दों की नक्काशी (सुन्दर शिल्प ) के साथ गागर में सागर का कार्य होना चाहिए। सीधी-सीधी बात का कोई औचित्य नहीं।

***एक व्यक्ति एक सप्ताह में केवल (दो वर्ण पिरामिडों की ) एक ही पोस्ट करे.

नोट = इस समूह में केवल ''वर्ण पिरामिड'' रचनाएँ ही स्वीकार्य होंगी ,,,,कृपया अन्य किसी प्रकार की रचनाएँ यहाँ पोस्ट न करें ,,वर्ण पिरामिड लेखन की प्रक्रिया / विधि निम्न प्रकार से है --

((((((**** विधा - ''वर्ण पिरामिड'' ****)))))

********************************************

[इसमे प्रथम पंक्ति में -एक ; द्वितीय में -दो ; तृतीया में- तीन ; चतुर्थ में -चार; पंचम में -पांच; षष्ठम में- छः; और सप्तम में -सात वर्ण है,,, इसमें केवल पूर्ण वर्ण गिने जाते हैं ,,,,मात्राएँ या अर्द्ध -वर्ण नहीं गिने जाते ,,,यह केवल सात पंक्तियों की ही रचना है इसीलिए सूक्ष्म में अधिकतम कहना होता है ,, स्वतंत्र पंक्ति भाव पर केंद्रित है ,,किन्ही दो या अधिक पंक्तियों में तुकांत मिल जाये तो रचना में सौंदर्य आ जाता है ] जैसे-

ये
हिंदी
प्रसिद्धि
राष्ट्र बिंदी
भाव समृद्धि
शुद्ध अभिव्यक्ति
पावन अनुरक्ति। ... (1)
स्व
हिंदी
सुसभ्य
बोधगम्य
नहीं दुविधा
वैज्ञानिक विधा
उच्चारण सुविधा। ... (2 )



**सुरेशपाल वर्मा 'जसाला' (दिल्ली)
((एडमिन ))


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें